fbpx

कोरोना महामारी महिलाओं में मासिक धर्म की समस्याओं का कारण बनती है। जाने कैसे

fastcomet Web Hosting


दुनियाभर में कोरोना वायरस महामारी के दौरान यह संभव है कि लोग पहले से कहीं ज्यादा तनाव महसूस कर रहे हों। भले ही उन्हें इस बात का एहसास न हो। यह लगातार होने वाला तनाव शरीर में अजीब तरह की समस्या पैदा कर सकता है। महिलाओं के लिए तो यह महामारी और भी चिंता पैदा करती है, क्योंकि इससे उनके मासिक धर्म का चक्र यानी पीरियड साइकल बिगड़ सकता है। www.myupchar.com की डॉ. मेधावी अग्रवाल का कहना है कि तनाव एक हार्मोनल मार्ग को सक्रिय करता है जो कोर्टिसोल की रिलीज को बढ़ावा देता है, जिसे स्ट्रेस हार्मोन भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अधिक तनाव के समय शरीर में कोर्टिसोल का स्तर बढ़ता है। कोर्टिसोल का ज्यादा रिलीज होना प्रजनन हार्मोन के सामान्य स्तर को दबा सकता है। इससे असामान्य ओव्यूलेशन होता है जो पीरियड साइकल को बाधित कर सकता है।

पीरियड्स का कभी-कभी न आना यानी एमेनोरिया तब होता है जब कोई दर्दनाक घटना सामने आती है। दैनिक जीवन का तनाव यह भी प्रभावित कर सकता है कि महिला का पीरियड साइकल कितने समय तक चलता है। हालांकि, और भी कारक हैं जो इसका कारण बनते हैं। www.myupchar.com से जुड़े डॉ विशाल मकवाना का कहना है कि जीवनशैली भी पीरियड्स बंद होने का कारण हो सकती है। इसमें अत्यधिक तनाव के कारण पीरियड साइकल को नियमित करने वाले दिमागी हिस्से पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। इससे ओवुलेशन और पीरियड्स बंद हो जाते हैं। डिसमेनोरिया भी उच्च तनाव की स्थितियों से जुड़ा है। इसमें पीरियड्स के दौरान गर्भाशय में असहनीय पीड़ा होती है। जो लोग पहले से ही पीरियड का दर्द का अनुभव करते हैं, उनके इस तरह से प्रभावित होने की आशंका अधिक होती है।

यह ध्यान रखना जरूरी है कि यह आशंका नहीं है कि यह प्रकोप पीरियड साइकल को प्रभावित करेगा, लेकिन किसी भी बदलाव को मॉनिटर करना जरूरी है। तनाव पीरियड साइकल में होने वाले किसी भी बदलाव का दोषी हो सकता है, जिसे महिलाएं नोटिस करती हैं, न कि कोरोनो वायरस। जब आप कोविड-19 के कारण घर में रहते हुए भी हाथ धोने और स्वच्छता का अभ्यास कर रहे हैं, तो अपने पीरियड उत्पादों के साथ उसी तरह की स्वच्छता रखें।

तनाव दूर करने के लिए अपनाएं घरेलू उपचार
www.myupchar.com के डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि किसी भी स्थिति में तनाव को दूर करने के उपाय ढूंढ लेना चाहिए। इसके लिए कुछ घरेलू उपाय अपना सकते हैं। तुलसी के पत्ते का इस्तेमाल तनाव की स्थिति को कम करने में मदद करेगा। सुबह तुलसी के पत्ते को चबा लें या फिर कुछ पत्तों को गर्म पानी में डालकर ताजा पेय बना लें। तुलसी की चाय पीकर भी यह काम कर सकते हैं। तुलसी के अलावा ग्रीन टी का सेवन भी तनाव से राहत दिलाएगा। शहद और नीबू के साथ एक कप ग्रीन टी तनाव से राहत पाने का शानदार तरीका है। अश्वगंधा की जड़ को रोज रात को एक गिलास गर्म दूध में उबाल कर पिएं। इससे नींद भी अच्छी आएगी और तनाव कम करने में मदद मिलेगी।

अधिक जानकारी के लिए देखें : https://www.myupchar.com/disease/covid-19/pregnancy-labour-management-women-with-covid-19-infection
स्वास्थ्य आलेख www.myUpchar.com द्वारा लिखे गए हैं, जो सेहत संबंधी भरोसेमंद जानकारी प्रदान करने वाला देश का सबसे बड़ा स्रोत है।

.

Leave a Reply