fbpx

Aarogya सेतु ऐप: कोरोनावायरस ट्रैकिंग ऐप डाउनलोड करने और उपयोग करने का सरल तरीका aarogya setu App लगभग 9 करोड़ स्मार्टफ़ोन के पास कोविद 19 संक्रमण के संभावित जोखिम को ट्रैक करने के लिए डाउनलोड किया गया Aarogya Setu App अब तक डाउनलोड किया गया

fastcomet Web Hosting


Aarogya Setu App:कोरोना वायरस के कहर से बचने के लिए दुनियाभर के लोग अपने घरों में कैद होकर रहने को मजबूर हो चुके हैं। दुनिया के बाकी देशों की ही तरह भारत देश का भी हाल कुछ ऐसा ही है। ऐसे में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना के संक्रमण से देशवासियों को बचाने के लिए देशभर में लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। इस दौरान पीएम मोदी अपने संबोधन में देशवासियों से कोरोना से बचे रहने के लिए Aarogya Setu App डाउनलोड और उसे यूज करने की अपील करते रहते हैं। आइए जानते हैं आखिर क्या है यह ऐप और कोरोना से बचाने में कैसे करता है मदद।

अब तक Aarogya Setu App को 9.8 करोड़ लोग कर चुके हैं डाउनलोड-
मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा 2 अप्रैल को लॉन्च किए गए आरोग्य सेतु ऐप को अब तक 9.8 करोड़ लोग अपने फोन पर डाउनलोड कर चुके हैं। इतना ही नहीं 12 मई से जियो फीचर स्मार्टफोन पर भी यह ऐप उपलब्ध होगा। यह ऐप दुनिया में सबसे तेजी से 5 करोड़ डाउनलोड होने वाला ऐप बन चुका है और जल्द ही 10 करोड़ के क्लब में शामिल होने वाले ऐप में से एक होगा। भारत सरकार ने कोरोना वायरस के खिलाफ अपनी इस जंग में आरोग्य सेतु ऐप की मदद से अपने दो लक्ष्यों को हासिल किया है। सरकार का पहला लक्ष्य था कि किसकी जांच हो और दूसरा कहां अधिक जांच होनी चाहिए। आरोग्य सेतु ऐप को एंड्रॉयड और आईफोन दोनों तरह के स्मार्टफोन पर डाउनलोड किया जा सकता है। आरोग्य सेतु ऐप 11 भाषाओं में उपलब्ध है।

आरोग्य सेतु ऐप कैसे करते हैं डाउनलोड-
आरोग्य सेतु ऐप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों तरह के फोन पर उपलब्ध है। इस ऐप को Google Play Store से डाउनलोड कर सकते हैं। इस ऐप की मदद से आप यह जान सकते हैं कि कहीं आप गलती से किसी Covid-19 संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में तो नहीं हैं। आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड करते समय सुनिश्चित करें कि आरोग्‍य और सेतु के बीच कोई गेप न हो। इंस्‍टॉल करने के बाद ऐप को खोलें और अपनी पसंदीदा भाषा को चुनें। आरोग्‍य सेतु ऐप को ब्‍लूटूथ और जीपीएस डेटा की जरूरत पड़ेगी। आरोग्य सेतु कॉन्‍टैक्‍ट ट्रेसिंग के लिए आपके मोबाइल नंबर, ब्लूटूथ और लोकेशन डेटा का उपयोग करता है और बताता है कि आप कोरोना के जोखिम के दायरे में है या नहीं। ऐप तभी काम करता है जब आप अपने मोबाइल नंबर को रजिस्‍टर करते हैं और ओटीपी से उसे वेरिफाई करते हैं।

आरोग्य सेतु ऐप कैसे बताता है जोखिम का स्‍तर-
आरोग्य सेतु ऐप हरे और पीले रंग के कोडों में आपके जोखिम के स्‍तर को दिखाता है। आरोग्य सेतु ऐप यह सुझाव भी देता है कि आपको क्‍या करना चाहिए। यदि आपको ऐसी कोई समस्या नहीं है, तो आप ग्रीन जोन में रहेंगे। यह ऐप ब्लू टूथ और लोकेशन को ऑन रखने को कहता है। जब भी आप किसी भीड़ भाड़ वाले स्थान पर जाते हैं। यह ऐप ब्लू टूथ से आस पास के मोबाइल से संदेश लेता देता रहता है। जब आप किसी के पास खड़े हैं और पास खड़ा व्यक्ति भी ग्रीन जोन वाला नार्मल व्यक्ति ही है पर अगर वह व्यक्ति आज से 10 दिनों बाद किसी कारण से कोरोना पॉजिटिव हो जाएगा तो यह एप आपको तुरंत सतर्क कर देगा।

आरोग्य सेतु ऐप कैसे करता है काम-
कोरोना से बचे रहने के लिए व्यक्ति को सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियम का पालन करते हुए अपने घर पर रहना चाहिए। आरोग्‍य सेतु ऐप पर आप ‘सेल्‍फ एसेसमेंट टेस्‍ट’ फीचर का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इस फीचर का इस्‍तेमाल करने के लिए ऑप्‍शन पर क्लिक करें और फिर ऐप चैट विंडो खोल देगा। इसमें यूजर की सेहत और लक्षण से जुड़े कुछ सवाल किए जाएंगे। इसके लिए आपको कोविड-19 हेल्‍थ सेंटर्स बटन पर क्लिक करना होगा और अपने शहर की लोकेशन तक पहुंचने के लिए स्‍क्रॉलडाउन करना होगा।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी की मानें तो , आरोग्य सेतु ऐप अत्याधुनिक ब्लूटूथ टेक्नोलॉजी, तकनीक, गणित के सवालों को हल करने के नियमों की प्रणाली अलगोरिथ्म और कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग करते हुए, दूसरों के साथ उनकी बातचीत के आधार पर इसकी गणना करता है।

.

Leave a Reply